औरंगज़ेब – सूफ़ी या अत्याचारी? | नीरज अत्रि

हालाँकि कुछ इतिहासकार औरंगज़ेब को एक दयालु शासक के रूप में पेश करने की कोशिश करते हैं, लेकिन वास्तव में वह एक धार्मिक कट्टरपंथी और…

इस्लाम – हर भारतीय को इसे जानना क्यों आवश्यक है | श्री नीरज अत्रि

इस्लाम – हर भारतीय को इसे जानना क्यों आवश्यक है | Islam – Why Every Indian Needs to Know It यह एक महत्वपूर्ण विषय है…

वेद / शास्त्र भगवान के आदेश है क्या ? | श्री दत्तराज देशपांडे

२१ वी शताब्दी में विश्व के सभी लोगों को दो विभागों में पहचाना जा सकता है। प्रथम विभाग में अब्राहमिक मतों से निकली हुई जीवनदृष्टि,…

इस्लाम में जातिवाद, कट्टरपंथी अशराफ़ का वर्चस्व व् पसमांदा प्रतिरोध? | फ़ैयाज अहमद फैज़ी | Pasmanda Muslim Bigotry – An Ashrafia Threat

अशराफ शब्द ‘शरीफ’ शब्द का बहुवचन है जिसका अर्थ उच्च, या सभ्य, यानि सभ्य समाज। अशराफ मुसलमानों में विदेशी उच्च जाति मुस्लिम शामिल हैं। तो…

भारतीय होने का अर्थ — मोहम्मद फैज़ खान का व्याख्यान

भारतीय होने का क्या अर्थ है? वे क्या बातें हैं जो हमें भारतीय बनातीं हैं, या नहीं बनातीं? अपने इस व्याख्यान में मोहम्मद फैज़ खान…

इस्लाम का शब्दजाल | The Web of Lies of Islam – नीरज अत्री का व्याख्यान

क़ुरान की कुछ आयतें ऐसी हैं, जिन्हें आधा-अधूरा बताकर, या संदर्भ हटाकर बताए जाने पर ऐसा लगता है जैसे इस्लाम अन्य विचारधाराओं का भी सम्मान…

आधुनिक चिकित्सा मानव जीनोम (Genome) को अस्थिर करती है | राजीव रंजन का व्याख्यान

आम तौर पर हमें दो प्रकार की विचार धाराएं देखने को मिलती हैं – एक जो मानव जीवन को अपूर्ण मानती हैं और कुछ पैगंबर…

पूजापाठ का परिचय: भाग 2 — दत्तराज देशपांडे का संगम व्याख्यान

हम लोग पूजा, पाठ, अनुष्ठान इत्यादि क्यों करते हैं ? अधिकांश लोग, विशेष तौर पर शैक्षिक वर्ग, ऐसा सोचता है की क्योंकि हमारे पूर्वज कई…

सनातन परंपरा की पुनर्स्थापना में संत रामानन्दाचार्य जी की भूमिका — श्री देवांशु झा का व्याख्यान

वक्ता के विषय में: – श्री देवांशु कुमार झा अठारह वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रहे हैं। वे समसामयिक विषयों पर लिखते…

आदि शंकराचार्य : जीवन चरित्र एवं समयकाल समीक्षा — श्री अमित शर्मा का व्याख्यान

वक्ता के विषय में: –   अमित शर्मा जी निवासी है उज्जैन (म.प्र) के । सदस्य है श्री ऋग्वेदीय पूर्वाम्नाया गोवर्धन मठ पुरीपीठ कृतः “अखिल…

संस्कृतम : आत्मा की भाषा – सम्पदानन्दा मिश्रा द्वारा एक व्याख्यान

वक्ता के विषय में: –   डॉक्टर संपानन्द मिश्रा, पुडुचेर्री में स्थित “ईदिशा”, के एक महान संस्कृत विद्वान  हैं I  आप  Sri Aurobindo Foundation for…

वर्ण, वेद व आधुनिक समाज — मोहित भारद्वाज द्वारा एक व्याख्यान

क्या हम स्वतंत्र हैं या पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित विश्व में जकड़ें हुए हैं ? क्या हमनें पूर्वजों की शिक्षा, भाषा और नैतिक मूल्यों को…

हमारे वक्तागण

Scribie.com
राहुल आडप
प्रियदर्शिनी सी एन
सत्यम
गीता मुरलीधरन
महेष श्रीमाली
अपनी भाषा चुनें
Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 988 other subscribers

Subscribe to our mailing list

* indicates required

Sarayu Foundation Trust is now on Telegram.
Sangam Talks Updates, Videos and more.

Powered by