खलीफत आंदोलन और महात्मा गाँधी – शंकर शरण का व्याख्यान

खलीफत आंदोलन (1919-21) भारत में महात्मा गाँधी का पहला और सब से बड़ा राजनीतिक अभियान था। कांग्रेस नेतृत्व, मुस्लिम राजनीति, हिन्दू-मुस्लिम संबंध और भारत के भविष्य के लिए उस के बड़े गहरे और दूरगामी परिणाम हुए। उस घटना की शताब्दी के अवसर पर उस के सबक पर विचार करना जरूरी है। खलीफत आंदोलन क्या था? उस में गाँधीजी की क्या भूमिका थी? उस के क्या नतीजे हुए? आज उन घटनाओं को याद करने की क्या प्रासंगिकता है? इन प्रश्नों पर विचार करके ही कई वर्तमान समस्याओं को ठीक से समझा जा सकता है।


वक्ता-परिचय: –

डॉ शरन हिंदी लेखक व शिक्षाविशारद होने के साथ राजनीति विज्ञान के प्राध्यापक भी हैं। आप सोवियत-मार्क्सवादी सिद्धांत एवं कार्यप्रणाली के विशेषज्ञ हैं। आपने कम्युनिज़्म, मार्क्सवाद, सेक्युलरवाद, इस्लामी आतंकवाद, गांधीवाद एवं तुलनात्मक धर्ममीमांसा जैसे विषयों पर हिन्दू दृष्टिकोण से अनेकों पुस्तकें लिखी हैं। आगे…


Leave a Reply