छत्तीसगढ़ में पले-बढ़े डॉ अरविंद अग्रवाल ने अपने करियर में तेजी से, समय के साथ चलते हुए; अपने आप को हॉस्पिटैलिटी, एजुकेशन, ट्रेनिंग, और एंटरप्रेन्योरशिप के क्षेत्र में स्थापित किया| स्वभाव से संवेदनशील तथा उद्यमी होने के कारण, उन्होंने सोशल एंटरप्रेन्योरशिप अर्थात उद्यमिता के माध्यम से समाज के लिए अपना योगदान देने का रास्ता चुना | सोशल प्रोसेसेज; संस्कृति और जीवन की क्वालिटी के बीच पारस्परिक सम्बन्ध की गहरी समझ, जिसे “सोशियोनॉमिक्स” कहा जा सकता है; डॉ. अरविन्द की विशिष्टाओं में से एक है | समृद्ध-संतुलित जीवन-शैली (WORK-LIFE INTEGRATION) और व्यवसाय-कार्यक्षेत्र में आध्यात्म के व्यावहारिक सिद्धांत – जैसे जटिल विषयों पर अंग्रेजी-हिंदी में व्याख्यान के लिए डॉ. अरविन्द से वीडियो के प्रकाशक के माध्यम से सम्पर्क किया जा सकता है |


अरविन्द अग्रवाल का संगम व्याख्यान